Download Our App

Follow us

Home » अपराध » कार दुर्घटना पर निबंध-मजिस्ट्रेट ने न्याय व्यवस्था को कुचला कर मार दिया : विधायक अजय विश्नोई ने निबंध लिखकर जताया गुस्सा

कार दुर्घटना पर निबंध-मजिस्ट्रेट ने न्याय व्यवस्था को कुचला कर मार दिया : विधायक अजय विश्नोई ने निबंध लिखकर जताया गुस्सा

जबलपुर (जयलोक)
भाजपा के वरिष्ठ नेता पूर्व मंत्री और पाटन के विधायक अजय विश्नोई ने अपने शहर जबलपुर की एक होनहार बेटी इंजीनियर अश्विनी कोष्टा और उमरिया के युवा अनीश अवधिया को पुणे में एक रईसजादे ने शराब के नशे में रात को 2 बजे अपनी महंगी गाड़ी से कुचल कर मार दिये जाने की घटना पर रोष व्यक्त किया है। उन्होंने कहा है कि इस घटना से ज्यादा शर्मनाक और दर्दनाक फैसला देकर एक मजिस्ट्रेट ने देश की न्याय व्यवस्था को कुचलकर मार दिया। छोटे से बच्चे को इस छोटे से अपराध की छोटी सी सजा सुना दी। कार दुर्घटना पर 300 शब्दों का निबंध लिखकर दिखाओ। इतने बड़े घर का छोटा सा बच्चा स्वयं निबंध क्या लिखेगा यह सोच कर एक भले मानस ने उस बच्चे की ओर से यह निबंध अंग्रेजी में लिख दिया उसे श्री विश्नोई ने हिन्दी में लिख रहा है। निबंध मैं 12वी की परीक्षा में पास हो गया। चार माह बाद 18 साल का हो जाऊंगा। पापा ने पार्टी के लिए पैसे दिए और नई पोर्श कार भी दे दी। मैं दोस्तों के साथ शहर के एक महंगे पब गया देर रात तक हमने दोस्तों के साथ जमकर शराब पी। पब का मालिक मेरे पापा को जानता है इसलिए हम बच्चों को उसने शराब देने से मना नहीं किया।पार्टी के बाद में दोस्तों को अपनी नई महंगी कार पर घुमाने के लिए निकला। कार के पॉवरफुल इंजन, मेरे अंदर की शराब और मेरे पापा के रुतबे के कारण कार बहुत तेज दौड़ रही थी। तभी अचानक एक लडक़ा और एक लडक़ी मेरे कार के सामने आ गए और टक्कर हो गई। एक्सीडेंट हो गया। एक्सीडेंट के कारण मेरी कार के सभी एयर बैग खुल गए और मैं उसमे फंस गया। बाद में इस कंपनी की शिकायत करूंगा यदि मैं एयर बैग में न फंसा होता तो आसानी से निकल जाता और ड्राइवर अंकल को अपनी जगह बैठा देता।एक्सीडेंट के बाद कुछ लोग आकर मेरे को मारने लगे। उनको कुछ नहीं कहा जो रात को 2 बजे सडक़ पर पैदल घूम रहे थे। भला हो एक अंकल का जिन्होंने हमे आकर बचाया ओर हमें पुलिस थाने लेकर आ गए। पुलिस अंकल ने हमारी बहुत मदद की। तभी विधायक अंकल आ गए और बाद में पापा चार वकीलों को लेकर आ गए। उसके बाद सब ठीक हो गया। मैं थाने में ही सो गया। थाने में गर्मी बहुत थी। मैंने पुलिस अंकल से कहा पापा को बोलेकर आपके थाने में तीन एसी लगवा दूंगा।सुबह 9 बजे पुलिस अंकल ने मुझे उठा दिया। कहा उठकर मुंह धो लो। डॉक्टर के पास चलना है,और फिर जज अंकल के पास चलेंगे।डॉक्टर अंकल ने बताया कि मेरे शरीर में शराब का अंश जीरो है। मैंने तय किया बाद में पब के खिलाफ  कार्यवाही करना होगी जो नकली शराब बेचता है ऐसे कैसे इतनी महंगी शराब इतनी जल्दी उतर गई। जज अंकल बहुत अच्छे थे उन्होंने ने मुझे दुर्घटना पर 300 शब्दों का निबंध लिखने का आदेश दिया। सिर्फ  1000 रूपये देकर मैंने आपने मित्र से यह निबंध लिखवा लिया हे। जज अंकल खुश हो जाएंगे।

Jai Lok
Author: Jai Lok

Leave a Comment

RELATED LATEST NEWS

Home » अपराध » कार दुर्घटना पर निबंध-मजिस्ट्रेट ने न्याय व्यवस्था को कुचला कर मार दिया : विधायक अजय विश्नोई ने निबंध लिखकर जताया गुस्सा
best news portal development company in india

Top Headlines

वीरांगना दुर्गावती के बलिदान दिवस पर दो दिवसीय आयोजन 22 को मैराथन और 24 जून को समाधि और प्रतिमा स्थल पर होंगे कार्यक्रम

जबलपुर (जयलोक) नगर निगम जबलपुर द्वारा दुर्गावती स्मृति रक्षा अभियान एवं मित्रसंघ-मिलन के संयोजन में वीरांगना रानी दुर्गावती के 461वें

Live Cricket