Download Our App

Follow us

Home » अपराध » बच्चों का भविष्य बना रहे हैं या वसूली कर रहे हैं.. प्रायवेट स्कूल लूट जैसे अपराधिक षडयंत्र न करें और बढ़ी हुई फीस वापस करें-कलेक्टर

बच्चों का भविष्य बना रहे हैं या वसूली कर रहे हैं.. प्रायवेट स्कूल लूट जैसे अपराधिक षडयंत्र न करें और बढ़ी हुई फीस वापस करें-कलेक्टर

स्कूल प्रबंधन अपनी कार्य प्रणाली सुधारे अन्यथा उनके विरूद्ध अपराधिक प्रकरण दर्ज किया जायेगा

जबलपुर (जयलोक)
कल जिला प्रशासन ने दूसरी खुली सुनवाई का आयोजन किया। इस सुनवाई में शहर के आठ निजी स्कूलों के खिलाफ  प्राप्त हुई शिकायतों के संबंध में दोनों पक्षों को सुना गया। विभिन्न स्कूलों के संबंधों में प्राप्त शिकायतें चौंकाने वाली थी। यह बात भी सामने आई की करोड़ों रुपए अधिक फीस और अन्य मदों के नाम पर वसूल किए गए हैं।
कलेक्टर दीपक सक्सेना की अध्यक्षता में आयोजित हुई इस खुली सुनवाई में क्राईस्टचर्च स्कूल, ज्ञान गंगा आर्चिड इंटरनेशनल स्कूल, लिटिल वल्र्ड कटंगा एवं तिलवाराघाट, सत्यप्रकाश स्कूल, अजय सत्यप्रकाश स्कूल, चैतन्य टैक्नो स्कूल, नालंदा स्कूल से संबंधित शिकायतों की खुली सुनवाई की गई। अपर कलेक्टर श्रीमती मिशा सिंह, जिला कोषालय अधिकारी विनायका लाकरा, जिला शिक्षा अधिकारी घनश्याम सोनी सहित अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे। खुली सुनवाई में मनमाने फीस वृद्धि व अनियमितताओं पर अभिभावकों ने खुलकर अपनी समस्याएं बताई। कलेक्टर ने उक्त सभी स्कूलों के प्रबंधक व प्राचार्य से शिकायत के संबंध में तथ्यात्मक जानकारी चाही जिसमें वे संतुष्टिपूर्ण जवाब न देकर गोल मोल जवाब दिये। उनका जवाब सुनकर कलेक्टर ने सख्त निर्देश देते हुए कहा कि स्कूल प्रबंधन अपनी कार्य प्रणाली सुधारे अन्यथा उनके विरूद्ध अपराधिक प्रकरण दर्ज किया जायेगा।
शिकायतों में मुख्य रूप से बिना किसी पूर्व सूचना के अप्रत्याशित रूप से फीस वृद्धि, एक ही स्कूल में एक ही कक्षा की अलग-अलग फीस, किसी नियत स्थल से ड्रेस व शैक्षणिक सामग्री मिलने, टीसी प्रदान नहीं करने तथा कोचिंग लेने के लिये प्रेरित करना आदि बहुत सी शिकायत अभिभावकों द्वारा की गई।
अभिभावकों ने बताया कि ज्ञान गंगा इंटरनेशनल स्कूल में नर्सरी के बच्चों के ड्रेस भी 13-13 हजार रूपये में बैंगलोर से आते है। मनमाने फीस के साथ पिज्जा पार्टी के नाम से पांच-पांच हजार रूपया अलग से फीस ली जाती है। हर गतिविधि बैंगलोर की परिस्थिति के अनुसार ही संचालित किया जाता है।
इसी प्रकार क्राईस्टचर्च स्कूल में भी बिना पूर्व सूचना के फीस वृद्धि जैसे कई शिकायतों की सुनवाई की गई। संबंधित संस्था के प्रतिनिधि ने तो आईएसबीएन के संबंध में भी जानकारी नहीं होने की बात कही। स्कूल में अधिकाशं पुस्तकें बी कैटेगरी के होने तथा पुस्तकें बिना आईएसबीएन नंबर के संचालित होने पर संबंधित अधिकारी को उक्त दिशा में आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिये। कलेक्टर श्री सक्सेना ने अन्य निजी स्कूल अजय सत्यप्रकाश स्कूल पनागर, चैतन्य टैक्नो स्कूल, नालंदा स्कूल धनवंतरी नगर से संबंधित शिकायतों की सुनवाई की और सभी स्कूलों को चेतावनी देते हुये कहा कि वे लूट जैसे सोची समझी अपराधिक षडयंत्र न करें, सही तरीके से स्कूल चलायें और बढ़ी हुई फीस वापस करें। कलेक्टर ने कहा कि जिन स्कूलों ने बिना किसी सूचना के फीस वृद्धि कर करोड़ों रूपये से ज्यादा की धनराशि अर्जित की है। इस पर भी ऑडिट कराकर आवश्यक कार्यवाही की जायेगी। खुली सुनवाई के दौरान अपर कलेक्टर श्रीमती मिशा सिंह, जिला कोषालय अधिकारी विनायका लाकरा, जिला शिक्षा अधिकारी श्री घनश्याम सोनी सहित संबंधित विद्यालय के प्रबंधक, प्राचार्य और अभिभावक उपस्थित थे।
                                              ज्ञान गंगा स्कूल के गजब कारनामें
ज्ञान गंगा आर्चिड इंटरनेशनल स्कूल द्वारा फीस, किताब, ड्रेस आदि सब कुछ बैंगलोर द्वारा निर्देशित किये जाने पर स्थानीय स्तर पर अभिभावकों को बड़ी असुविधा का सामना करना पड़ रहा है। स्कूल के प्रबंधक भी इस विषय पर तर्क संगत उत्तर प्रस्तुत नहीं करने पर कलेक्टर अपनी नाराजगी जाहिर करते हुये आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिये। उक्त स्कूल के संबंध में एक अभिभावक ने बताया कि टीसी निकालने के 50 हजार रूपये देने के लिये तैयार हैं, परंतु टीसी नहीं दी जा रही है और लगातार फीस वृद्धि की जा रही है, एक ही कक्षा में अलग-अलग फीस स्ट्रक्चर है। बच्चों के आईडी कार्ड के साथ माता-पिता का आईडी कार्ड के भी 450 रूपये फीस ली जा रही है। उन्होंने अपनी करूणा व्यक्त कर कहा कि इससे तो अच्छी पढ़ाई सरकारी स्कूलों में होती है। जहां इतनी परेशानी भी नहीं होती। उक्त स्कूलों में जाँच के दौरान भी कई खामियाँ पाई गई, जिसमें स्कूल के नाम परिवर्तन के लिये अनुमति, डाइसकोर्ड व नवीन मान्यता आदि के नहीं होने पर वैधानिक कार्यवाही करने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिये।

Jai Lok
Author: Jai Lok

Leave a Comment

RELATED LATEST NEWS

Home » अपराध » बच्चों का भविष्य बना रहे हैं या वसूली कर रहे हैं.. प्रायवेट स्कूल लूट जैसे अपराधिक षडयंत्र न करें और बढ़ी हुई फीस वापस करें-कलेक्टर