Download Our App

Follow us

Home » राजनीति » दत्तात्रेय होसबोले फिर बने आरएसएस के सरकार्यवाह

दत्तात्रेय होसबोले फिर बने आरएसएस के सरकार्यवाह

नागपुर (एजेंसी/जयलोक)। नागपुर में संपन्न हुई राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा में कई अहम निर्णय हुए। आरएसएस की इस महत्वपूर्ण बैठक में संगठन को लेकर कई बदलाव किए गए हैं। वहीं दत्तात्रेय होसबोले को अगले 3 वर्षों के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सरकार्यवाह या महासचिव के रूप में फिर से चुना गया। वह मार्च 2021 से महासचिव के रूप में कार्यरत हैं। सरकार्यवाह के लिए हुए चुनाव में होसबोले के नाम पर मुहर लगी है। पिछली बार 2021 में भी होसबोले ही महासचिव चुने गए थे। बता दें कि हर तीन साल में सरकार्यवाह को लेकर चुनाव होता है। सामान्य भाषा में समझे तो यह किसी भी संगठन के महासचिव का पद होता है। दत्तात्रेय होसबोले दक्षिण भारत के कर्नाटक से आते हैं। वह कन्नड के अलावा हिन्दी, अंग्रेज़ी, संस्कृत, तमिळ, मराठी समेत कई भारतीय एवं विदेशी भाषाओं के विद्वान हैं। आरएसएस ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर पोस्ट कर इस बात की जानकारी दी कि सरकार्यवाह के लिए हुए चुनाव में होसबोले के नाम पर मुहर लगी। पोस्ट में लिखा कि आरएसएस अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा (एबीपीएस) ने सरकार्यवाह पद के लिए दत्तात्रेय होसबोले को फिर से 2024 से 2027 चुना। वह 2021 से सरकार्यवाह की जिम्मेदारी निभा रहे हैं।

स्वप्निल कुलकर्णी मध्य भारत के क्षेत्र प्रचारक बने

अब दीपक विस्पुते की जगह स्वप्निल कुलकर्णी मध्य भारत प्रांत के नए क्षेत्र प्रचारक बनाए गए हैं। राजमोहन को मालवा प्रांत के नए प्रांत प्रचारक की जिम्मेदारी सौंपी गई है।
मध्यभारत प्रांत के क्षेत्र प्रचारक दीपक विस्पुते को अखिल भारतीय सह बौद्धिक प्रमुख बनाया गया है। बलिराम पटेल अखिल भारतीय सामाजिक सद्भाव प्रमुख बनाए गए हैं। विमल गुप्ता को मध्य भारत प्रांत का प्रचारक बनाया गया है। विनय दीक्षित प्रज्ञा प्रवाह के संयोजक बनाए गए हैं।

Jai Lok
Author: Jai Lok

Leave a Comment

RELATED LATEST NEWS

Home » राजनीति » दत्तात्रेय होसबोले फिर बने आरएसएस के सरकार्यवाह