Download Our App

Follow us

Home » अपराध » नेता-प्रशासन किसकी शह पर शराब सिंडिकेट कर रहा 10 प्रतिशत की अवैध कमाई, खुलेआम हो रही करोड़ों की जीएसटी चोरी : शासन के खजाने में लग रही सेंध

नेता-प्रशासन किसकी शह पर शराब सिंडिकेट कर रहा 10 प्रतिशत की अवैध कमाई, खुलेआम हो रही करोड़ों की जीएसटी चोरी : शासन के खजाने में लग रही सेंध

जबलपुर (जयलोक)
जिले में 143 कंपोजिट शराब दुकानें हैं इन दुकानों से रोजाना लाखों रुपए की शराब बेची जा रही है। पाव अधिक और पूरी बोतल पर शराब सिंडिकेट अपनी मनमर्जी से 10, 20, 40 रुपए तक अधिक वसूली कर रहा है। सबसे बड़ा सवाल यह है कि एक डेढ़ महीने से जारी यह काम आखिर किस नेता और किस प्रशासन की शह पर खुलेआम अतिरिक्त राशि वसूलने की लूट मचाए हुए हैं। अगर किसी की शह नहीं है तो शहर के जनप्रतिनिधि और जिम्मेदार प्रशासनिक अधिकारी चुप क्यों बैठे हैं क्यों एक महीने डेढ़ महीने से लगातार सामने आ रही जानकारी के बावजूद भी शराब माफिया द्वारा सिंडिकेट बनाकर की जा रही लूटखसौट को रोका नहीं जा रहा है।
शहरी क्षेत्र नहीं बल्कि ग्रामीण क्षेत्र में भी अवैध रूप से प्रति बोतल पर अतिरिक्त राशि वसूलने का कार्य धड़ाधड़ से किया जा रहा है। कई माध्यमों से शराब माफिया द्वारा की जा रही अतिरिक्त वसूली की शिकायतें यहां से लेकर भोपाल और ग्वालियर तक की जा चुकी हैं। लेकिन लाखों करोड़ों की राशि से चल रहे इस भ्रष्टाचार के तंदूर में हर कोई अपनी रोटी सेंकने में लगा हुआ है।
होली के समय वैसे ही पूरे शहर में शराब माफिया अतिरिक्त बिक्री मदिरा प्रेमियों के बीच करने लगता है। शराब माफिया ने सिंडिकेट बनाकर होली के उचित समय पर लोगों को लूटने का और शासन को चूना लगाने का समय चुना है और अंधाधुंध काली कमाई की जा रही है। सूत्रों के अनुसार जिले में रोजना 2 से 3 करोड़ रुपए की देसी और अंग्रेजी शराब की बिक्री सामान्य रूप से होती है कई बार यह आंकड़ा बढ़ भी जाता है। प्रतिदिन करोड़ों की शराब बिक्री पर लाखों रुपए काली कमाई के रूप में वसूल किये जा रहे है। 10 प्रतिशत अतिरिक्त वसूली का आंकड़ा तो संभावित है कई स्थानों पर इससे कई गुना ज्यादा वसूली की जा रही है।
आबकारी दस्ते ने भी  खरीदी महँगी शराब
सूत्रों के अनुसार संभागीय उडऩ दस्ते ने लगातार मिल रही शिकायतों के बाद शहर की कुछ शराब दुकानों का निरीक्षण किया। इस दौरान महानद्दा में संचालित दुकान, शारदा चौक की दुकान, चेरीताल की शराब दुकान पर आबकारी विभाग की टीम को ही शराब माफिया के बने सिंडिकेट ने अधिक एमआरपी से अधिक दाम पर शराब बेची है ऐसा बताया जा रहा है।
कल बंद रहेंगी शराब दुकानें
जिला प्रशासन ने होली के मद्देनजर धुरेंडी के दिन सुबह से लेकर शाम 5 बजे तक शराब दुकान बंद रखने के आदेश जारी किये। जिला दंडाधिकारी दीपक सक्सेना ने 22 मार्च को ही इस संबंध में आदेश जारी कर दिए थे। आबकारी विभाग को निर्देश दिए गए है कि धुरेंडी के दिन शाम 5 बजे तक शराब दुकानों को बंद रखने के लिए आदेश के पालन सुनिश्चित किए गए है। इस अवधि में  मदिरा का क्रय विक्रय अवैध संग्रहण पूर्णता निसिद्ध रहेगा। दुकानदानों द्वारा नोटिस टांग दिये जाने से शराब प्रेमियों ने स्टॉक कर शराब को रखा।
इनका कहना है
शराब दुकानों का निरीक्षण किया जा रहा है। सभी दुकानों में तय रेट पर ही शराब बेची जा रही है। अगर इस मामले में शिकायत मिलेगी तो कार्रवाही की जाएगी।
                                                                         परमानंद कोरचे, सहायक जिला आबकारी अधिकारी एव कंटोलर

Jai Lok
Author: Jai Lok

Leave a Comment

RELATED LATEST NEWS

Home » अपराध » नेता-प्रशासन किसकी शह पर शराब सिंडिकेट कर रहा 10 प्रतिशत की अवैध कमाई, खुलेआम हो रही करोड़ों की जीएसटी चोरी : शासन के खजाने में लग रही सेंध
best news portal development company in india

Top Headlines

दुकानदारी का अड्डा बना कंट्रोल रूम कलेक्टर ने किया बंद : चतुर्थ श्रेणी का कर्मचारी बनकर बैठा था प्रभारी

जबलपुर (जय लोक) जिला कलेक्टर कार्यालय में कोरोना काल के समय सुविधा और जानकारी मोहिया कराने के उद्देश्य से एक

Live Cricket