Download Our App

Follow us

Home » राजनीति » कांग्रेस नगर अध्यक्ष और नेता प्रतिपक्ष के लिए समन्वय बनाने कल आ रहे सुखदेव पांसे, नेताओं को भड़ास निकलने का भी मिलेगा अवसर

कांग्रेस नगर अध्यक्ष और नेता प्रतिपक्ष के लिए समन्वय बनाने कल आ रहे सुखदेव पांसे, नेताओं को भड़ास निकलने का भी मिलेगा अवसर

जबलपुर जय लोक अपडेट । संस्कारधानी में कांग्रेस के एक नेता के भाजपा में चले जाने से कांग्रेस के संगठनात्मक समीकरण बिगड़ गए हैं। महापौर और नगर अध्यक्ष के पद पर रहते हुए जगत बहादुर सिंह ने कांग्रेस को छोड़ भाजपा का दामन थाम लिया। अब नगर अध्यक्ष का पद रिक्त है। नगर कांग्रेस अध्यक्ष पद और नगर निगम के लिए नेता प्रतिपक्ष की नियुक्ति हेतु कांग्रेस के लोकसभा क्षेत्र के प्रभारी पूर्व मंत्री सुखदेव पांसे को समन्वय बनाने की जिम्मेदारी कांग्रेस पार्टी द्वारा सौपीं गई है। इसी क्रम में कल सुखदेव पांसे का आगमन हो रहा है। रसल चौक स्थित एक होटल में वे कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ नगर अध्यक्ष पद , नगर निगम नेता प्रतिपक्ष के पद के लिए सामने आ रहे नाम पर चर्चा करेंगे। इसके अलावा कांग्रेस नेता पूर्व पार्षद राजेश यादव ने बताया कि संगठन प्रभारी सुखदेव पांसे कांग्रेस पार्षद दल की बैठक भी लेंगे और वरिष्ठ कांग्रेस जनों से चर्चा भी करेंगे।
संगठन प्रभारी सुखदेव पांसे के समक्ष सभी उम्मीदवार अपनी अपनी दावेदारी और दावेदारी के आधार को प्रस्तुत करेंगे। जिस नाम पर कांग्रेस की सभी इकाइयों और संगठनों से चर्चा करने के बाद आम सहमति बनती नजर आएगी इस नाम पर अंतिम मोहर लगेगी। कल दोपहर बाद से बैठक का क्रम शुरू हो जाएगा जो देर शाम तक चलने की उम्मीद है।

भड़ास निकलने का भी मिलेगा अवसर

सूत्रों के अनुसार विधानसभा चुनाव में जिस प्रकार से कांग्रेस के नेताओं ने अपने ही विधायकों को निपटने में महत्वपूर्ण भी भूमिका अदा की है और दिल खोलकर अपनी ही पार्टी से गद्दारी की है इन सब बातों से मन में भरा आक्रोश भी कल फुटकर सामने आ सकता है। अपने वरिष्ठ नेता के समक्ष स्थानीय गद्दार नेताओं के क्रियाकलापों का लंबा चौड़ा कच्चा चिट्ठा तैयार किए बैठे कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ता अपनी भड़ास निकालने के लिए इस अवसर को नहीं गवाएंगे।

Jai Lok
Author: Jai Lok

Leave a Comment

RELATED LATEST NEWS

Home » राजनीति » कांग्रेस नगर अध्यक्ष और नेता प्रतिपक्ष के लिए समन्वय बनाने कल आ रहे सुखदेव पांसे, नेताओं को भड़ास निकलने का भी मिलेगा अवसर