Download Our App

Follow us

Home » राजनीति » तन्खा का दावा- पहला फेज हारने के बाद भाजपा बदलेगी रणनीति, अब हिंदू-मुस्लिम पर रहेगा जोर

तन्खा का दावा- पहला फेज हारने के बाद भाजपा बदलेगी रणनीति, अब हिंदू-मुस्लिम पर रहेगा जोर

भोपाल (जयलोक)
लोकसभा चुनाव को लेकर चौथे चरण के लिए नामांकन की प्रकिया जारी है। खरगोन लोकसभा से कांग्रेस प्रत्याशी पोरलाल खरते के पक्ष में नामांकन जमा करने पहुंचे कांग्रेस के सीनियर लीडर विवेक तन्खा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा पर जमकर जुबानी हमला बोला। उन्होंने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री मोहन यादव को भी आड़े हाथों लिया। तन्खा ने कहा कि पहले चरण में ही उन्हें पता चल गया है कि उनकी हालत खऱाब है। इस वजह से वे इस तरह से हिंदू-मुस्लिम कर रहे हैं। पहले फेज में ही उनको पता चल गया है कि वे हार रहे हैं, और इंडिया एलाइंस बहुत आगे है। इस वजह से अब हर फेज में इनका हिन्दू-मुस्लिम बढ़ता जाएगा। भाजपा की सीटे घटती जाएंगी। उन्होंने मांग की है कि चुनाव आयोग को प्रधानमंत्री के बयान पर एक्शन लेना चाहिए। साथ ही उन्होंने सीएम मोहन यादव पर भी पलटवार करते हुए कहा कि उन्हें जमीनी हकीकत पता नहीं है।
प्रधानमंत्री का स्टेटमेंट था चौंकाने वाला- खरगोन पहुंचे कांग्रेस के सीनियर लीडर विवेक तन्खा ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि मैं कांग्रेस के अपने प्रत्याशी को बधाई देता हूं कि उन्होंने आधी लड़ाई तो नामांकन फार्म जमा करके ही जीत ली है। अब लड़ाई आर-पार की है। या तो संविधान बचेगा या नहीं बचेगा। प्रधानमंत्री का जो स्टेटमेंट था, वह बहुत ही चौंकाने वाला था। मैं नहीं सोचता कि इस देश में 140 करोड लोगों में से कोई यह सोच सकता होगा कि प्रधानमंत्री इस लेवल का स्टेटमेंट दे सकते हैं। वह हिंदू-मुसलमान की ऐसी बात कर रहे थे, जैसे कोई सामान्य-सी बात है। वह भी सारी निराधार बातें थीं। वे चीजों को तोड़-मरोड़ के गलत ढंग से अपना स्टेटमेंट बना रहे हैं। मुझे लगता है कि इलेक्शन कमीशन को उस पर तुरंत संज्ञान लेना चाहिए।
तन्खा बोले, यह अघोषित आपातकाल
मुख्यमंत्री मोहन यादव ने अपने एक बयान में कहा था कि कांग्रेस की बस में पेट्रोल खत्म हो गया है। इस पर पलटवार करते हुए तन्खा ने कहा कि उन्हें ग्राउंड रियलिटी का पता ही नहीं है। जमीनी स्तर पर लोग डरे हुए हैं। लोगों को पता है कि यह एक तरह से अघोषित आपातकाल है। उसे ही हटाने के लिए लोग मतदान करेंगे। आपातकाल के बाद जिस तरह से एक तरफ चुनाव हुआ था। उसी तरह से अब भी एक तरफ चुनाव होने वाला है। आज हम आपको गिनती नहीं बताएंगे। गिनती तो हमारे देश का जनतंत्र देगा। हमारा 100 करोड़ वोटर देगा।
बीजेपी जीती तो 2029 में नहीं होंगे चुनाव
संविधान बदलने वाली बात पर पलटवार करते हुए विवेक तन्खा ने कहा कि बाबा साहब अंबेडकर के संविधान को हमने बहुत ही संभाल कर रखा। इसे 75 वर्ष हो रहे हैं। वे लोग 75 साल की बात करते हैं और अमृत काल मनाते हैं। दूसरी तरफ संविधान को बदलने की भी बात करते हैं। तो फिर अमृत काल क्यों मना रहे हैं? यह बीजेपी का दोहरा चेहरा और चरित्र है। तन्खा ने कहा कि अगर बीजेपी जीत जाती है तो 2029 में फिर कोई चुनाव नहीं होगा। फिर एक ही पार्टी का चुनाव होगा। जैसे पुतिन जीता है वहां पर विपक्ष नहीं होता है। 97 फीसदह्म् वोट एक ही व्यक्ति को मिलते हैं।
अब हर फेज में बढ़ता जाएगा हिंदू-मुस्लिम
विवेक तन्खा ने आम लोगों से अपील करते हुए कहा कि अगर आप इसी तरह की व्यवस्था चाहते हैं, जिसमें डर हो, सीबीआई,आईटी, ईडी से डराकर रखा जाता है। तो फिर आप बीजेपी को ही वोट दीजिए। आपके चीफ मिनिस्टर जेल में रहेंगे, मिनिस्टर जेल में रहेंगे, लोग देश छोड़-छोडक़र जाएंगे। तन्खा से पूछा गया कि भाजपा हिंदुत्व और राम मंदिर के मुद्दे पर फ़ोकस कर रही है तो उन्होंने कहा कि अब उनका फोकस इस पर नहीं है। प्रधानमंत्री का कल का स्टेटमेंट बताता है कि फर्स्ट फेज में वे हार रहे हैं। उनको पता चल गया कि 102 -112 सीट ही उनको मिलने वाली है। फर्स्ट फेज में बीजेपी बहुत पीछे है और इंडिया अलायंस बहुत आगे निकल गया है। उसी से बौराकर अब अगले हर फेज में हिंदू0मुस्लिम बढ़ता जाएगा और भाजपा की सीट कम होती जाएगी।

Jai Lok
Author: Jai Lok

Leave a Comment

RELATED LATEST NEWS

Home » राजनीति » तन्खा का दावा- पहला फेज हारने के बाद भाजपा बदलेगी रणनीति, अब हिंदू-मुस्लिम पर रहेगा जोर